Welcome!   Login चील का आलस और जंगल का तूफ़ान – CHALK-N-SLATE
Apr 7, 2017
893 Views

चील का आलस और जंगल का तूफ़ान

Written by

एक बार की बात है एक घने जंगल में एक बड़ा सा बरगद का पेड़ था| उस पेड़ पर चील का एक परिवार रहता था|

 

माता चील अपने बच्चों को उड़ना और शिकार करना सिखाती थी, और घोसले में पूरे परिवार के लिए भोजन जुटाने की जिम्मेदारी पिता चील की थी|

 

शान सभी चीलों में सबसे छोटा था| वह बहुत चालाक किन्तु बहुत ही अधिक आलसी था|

वह उड़ना और शिकार करना सीखना नहीं चाहता था|

वह कभी मेहनत नहीं करना चाहता था और घोसले में पड़े रहना चाहता था,

तथा अपने पिता के लाये हुए भोजन को खा कर आराम करना चाहता था|

एक दिन जब घर के  सभी सदस्य अपने अपने काम से बहार निकले, तो शान फिर से हर रोज की तरह घोसले में आराम कर रहा था|

भयंकर तूफ़ान….

उसी समय एक भयंकर तूफ़ान आया और सभी पेड़ पौधे जोरों से हिलने लगे|

 

शान अब भी अपने घोसले में निश्चिन्त होकर सो रहा था| बरगद का पेड़ विशाल था लेकिन तूफ़ान की तिव्रता अब बढ़ रही थी|

 

देखते ही देखते कुछ पेड़ों की टहनियां टूट कर गिरने लगीं, तथा कुछ कमजोर पेड़ भी अपनी जड़ों से उखड़ गये|

शान घबरा गया|

जैसे ही उसका घोसला हवा से जोरों से हिलने लगा वह वहां से भागने की कोशिश करने लगा|

उसने जैसे ही अपने पंख फैला कर उड़ने किलोशिश की वह गिरने लगा| हवा के तेज बहाव के सामने वह उड़ नहीं पा रहा था|

अब वह और अधिक घबरा गया, और मदद के लिए पुकारने लगा|

लेकिन आस पास कोई भी उसकी मदद करने वाला नहीं था| वह जैसे तैसे एक टहनी को पकड़कर तूफ़ान के थमने का इंतज़ार करने लगा|

बहुत समय तक इंतज़ार करते हुए उसे भूख भी लगी थी और वह रोने लगा|

उसे अपनी गलती का एहसास होने लगा| वह समझ चुका था कि अगर उसने आलस को त्यागकर अपने माता पिता के साथ गया होता तो वह इस मुसीबत से बच जाता और उड़ना भी सीख जाता|

 

“आलस्य हमेशा संकट को उत्पन्न करती है”

 

 

Leave a Comment