Welcome!   Login “हम तो कलाकार हैं जनाब, कला की आड़ में कुछ भी लिख जायेंगे" - CHALK-N-SLATE
Jul 29, 2017
52 Views
2 0

“हम तो कलाकार हैं जनाब, कला की आड़ में कुछ भी लिख जायेंगे”

Written by

“हम तो कलाकार हैं जनाब, कला की आड़ में कुछ भी लिख जायेंगे, कुछ भी कह जायेंगे|”

जी हाँ आज यह अधिकतर ईमानदार कला के पुजारियों के हालत हैं|

धूर्त मंशा को मासूमियत के लिबाज में छिपाकर चुटीले शब्दों से व्यंग्य के बाण चलायें और बस फिर क्या?

जनता मूर्छित हो जाएगी|

लच्छेदार शब्दों में भषण देने वालों को भी ये जनता सिरमौर बना देती है साहब|

और ये समझती है कि ‘ये पब्लिक है ये सब जानती है’|

पर ये नादान है, दूसरों की बातों और सोच पर इनकी विचारधारा निर्भर करती है|

क्योंकि हम कलाकार और राजनितिक हुनुरबाजों में फर्क करना नहीं जानते|

हास्य कवि सम्मलेन की आड़ में ये कुछ भी कहते हैं, लोग हँसते हैं और ये हँसाते हैं|

सरकार चाहे अच्छा करे या बुरा ये मखौल उड़ना नहीं भूलते|

टीवी चैनल पर ‘राणा’ जी पूरे हास्य और व्यंग्य के साथ लोगों को ये ‘विश्वास’ दिलाते हैं कि वे सब ‘आम’ हैं|

सब के चहेते कुमार विश्वास जी जिन्हें कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है, पूरे आत्मविश्वास से ओत प्रोत कभी अटल बिहारी जी तो कभी मोदी जी का मखौल उड़ाते हैं|

वह यह भूल जाते हैं की जिस राजनीती की इज्जत वो उछालते हैं, उसी की चाशनी में डूबकर आज कल इतना मीठा बोल जाते हैं|

जब एक किसान आम आदमी पार्टी की सभा में आत्महत्या कर रहा था तब ये मंच पर खड़े जुमले पढ़ रहे थे,

लेकिन क्या करें जनाब ये कलाकार हैं इनके तो सौ खून भी माफ़ हैं|

हमारी जनता इनके बातों से अपने मत को तय करती है|

आजकल पूरे देश में जीएसटी को गलियां देने और मजाक उड़ने की होड़ लगी हुई है|

जो जनता ठीक से टैक्स नहीं जानती थी अचानक से अर्थशास्त्री बन बैठी है|

ये आप जैसे कलाकारों की ही मेहरबानी है जिनपर वैसे तो काफी रियायतों की वजह से अर्थव्यवस्था का कुछ खास फर्क नहीं पड़ता पर ‘आप’ जनता को भरमाने से बाज नहीं आयेंगे|

अरे आप कलाकार हैं विश्वास जी देश सेवा करें लेकिन राजनितिक रोटियां ना सेंकें|

ये जनता बहुत भोली है आपके हर एक बात का भरोसा कर लेती है|

जब सरकार के कदम गलत साबित हो जायें तब आन्दोलन करना साहब|

नोटबंदी पर भी बहुत हल्ला मचाया था आपने लेकिन हमारे युवराज श्री राहुल गाँधी जी के एटीएम की लाइन में पहली बार खड़े होने को छोडकर दूसरी और कोई हृदयविदारक दृश्य सामने नहीं आये|

बाकि आप समझदार हैं ये पब्लिक एक ना एक दिन सब कुछ जान ही जाएगी|

जय हिन्द|

 

Rating: 5.00. From 3 votes.
Please wait...
Article Categories:
Political