Currently browsing

February 2018

भोर

फिर शाम होने को है, एक तसल्ली दिल को भरे देती है। के अँधेरा आने वाला है, वो मुझसे मेरी पहचान नहीं पूछता। शोहरत के संगीत को मेरे तराने अभी कच्चे हैं, मीठे ख्वाबों के लालच में जरा देर से आँखें खोली हैं। धोखे खाए हैं मैंने रौशनी से, अंधियारों …

Let’s Talk Again

Lets cover ourselves in the blanket of love, And meet on the street corner down the hill. Then I will write our names together in your hand. Leaving all the formalities behind, You will rest your head on my shoulder. Under the shades of glittering stars, We will read your …

होली: रंग भारत के पहचान के

हमारा देश भारत त्योहारों, रिवाजों और अनेकता में एकता का देश है| हम होली, दिवाली, ईद, क्रिसमस और गुरु पर्व एक साथ मनाते हैं| हर एक त्यौहार के अपने अलग महत्त्व है, दिवाली दीयों का,तो ईद अकीदत का| हिन्दू और मुसलमान सैकड़ों वर्षों से एक साथ रहते आ रहे हैं| …

Abhishekam of Mahadev : Rudra Abhishekam

When it comes about Lord Shiva the first thing that comes in our mind is Abhishekam. When we pour water with chanting of mantras on the Shivling is called Abhishekam. But there is a question always arises in our mind that the God who created every micro to giant particles …

लकीरें

अरसे बीत गए खेतों के मेडों पर दौड़ लगाये हुए, कटी पतंगों के पीछे सरहदों को लांघा था हमने। मेरे बेबाक बंजारेपन को जाने किसकी नजर लग गयी, ऐ खुदा ! तेरे इस जहाँ में ये लकीरें क्यों खीच गयीं? तब सेवईयां भी हमारी थीं और लड्डू भी हमारे थे, …

Meditation or Medication: Choose Wisely

Everyone is in a great hurry to work more and more and more. Trying to keep up with the rest of the word we wake up and run in the race of life daily. Success and money is so important that people are always in hustle craving for more. Beside …