Currently browsing category

समाज

हम भारतीय: शिकायत अपनी आदत

हम भारतीय लोग हैं, अपनी परम्पराओं और उनके मूल्यों का पूरा सम्मान करते हैं| कुछ चीजें हैं हमारे देश में जो आज भी अपनी साख मजबूत किये हुए हैं, एकदम जैसे खूंटा ही गाड़े बैठे हों| कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक हर क्षेत्र में अलग-अलग चीजों की अपनी ही एक …

“देखो बाबू आपने देखी है ये सिनेमा?”12

एक सवाल..   “देखो बाबू सिनेमा है, आपने ये सिनेमा देखी है?” बड़े उत्साह से भरी हुई चमकती हुई आँखों के साथ, चेहरे पर एक बच्चे की सी मुस्कान लिए हुए उस भीख माँगने वाली बूढ़ी औरत ने मुझसे पूछा| उस एक सवाल ने मेरे अंदर सवालों का जैसे एक …

बदलाव: एक जिम्मेदारी हमारे हिस्से की

हम बंधक हैं अन्याय के.. न्याय के लिए हमारे महान क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी थी,क्योंकि अंग्रेजों को कोई अधिकार न था की वे हमारी भूमि पर  शासन करें| उन्होंने अन्याय को स्वीकार नहीं किया| लेकिन आज हम सब अन्याय के बंधक हैं क्योंकि हम अत्याचार के …